इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शुक्रवार, 29 मार्च 2013

समस्या समाधान शिविर !

कविता 

सुनील कुमार गुप्‍ता‍  
सरकार ने
समस्या समाधान शिविर लगाई
हर तरफ समस्याओं की बाढ़ आ गई ।

अफसर परेशान हो गये
कलेक्‍टर परेशान हो गया ।
कमर्चारियों का जीना हराम हो गया ।

शहर की दीवारों में
सूचना चस्पा करवाना ।
अखबारों में विज्ञापन छपवाना ।
निश्‍िचित स्थानों पर टैंट लगवाना ।
बिजली पानी की व्यवस्था करवाना ।
चपरासी से लेकर अफसर तक का
यहां जाना, वहां जाना ।

समस्या समाधान शिविर की सफलता हेतु
हर अफसर पूर्व समस्याओं से जूझने लगे ।
दूसरों को उजाला देने के लिए
खुद बूझने लगे ।
काम की अधिकता से हर कर्मचारी
परेशानियों से इतना बह गया ।
कि
समस्या समाधान शिविर अपने आप में
एक समस्या बनकर रह गया ।
पुष्पगंधा पबिलकेशन
राज महल चौक
कवर्धा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें