इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

रविवार, 24 मार्च 2013

बौना आदमी

 - हीरा लाल नागर -
अंतत: फैसला हुआ कि इस बार भी माँ हमारे साथ नहीं जाएगी। पत्नी और बच्चों को लेकर स्टेशन पहुँचा। ट्रेन आई और हम अपने गंतव्य की ओर चल पड़े। ठीक से बैठ भी नहीं पाए होंगे कि डिब्बे के शोर को चीरता हुआ फिल्मी गीत का मुखड़ा - हम बने तुम बने एक दूजे के लिए, गूँज उठा। उंगलियों में फँसे पत्थर केदो टुकड़ों की टिक ... टिक् ...टिकिर ...टिकिर....टिक् के स्वर में मीठी पतली आवाज ने जादू का -सा असर किया। लोग आपस में धँस- फँसकर चुप रह गए।
गाना बंद हुआ और लोग वाह,वाह, कर उठे। उसी के साथ उस किशोर गायक ने यात्रियों के आगे अपना दायाँ हाथ फैला दिया- बाबूजी दस पैसे, मेरे सामने पाँच-छह साल का दुबला-पतला लड़का हाथ पसारे खड़ा था।
- क्या नाम है तेरा?'' मैंने पूछा।
- राजू।''
- किस जाति के हो ?'' लड़का निरुत्तर रहा। मैंने लड़के से अगला सवाल किया - बाप भी माँगता होगा ?''
- बाप नहीं है।''
- माँ है ?''
-हाँ, है। क्यों,लड़के ने मेरी तरफ तेज निगाहें कीं।''
-क्या करती है तेरी माँ ?''
-देखो साब, उलटी-सीधी बातें मत पूछो। देना है तो दे दो।''
-क्या ?''
-दस पैसे।''
-जब तक तुम यह नहीं बताओगे कि तुम्हारी माँ क्या करती है, मैं एक पैसा नहीं दूँगा।'' मैंने लड़के को छकाने की कोशिश की...।
-अरे बाबा! कुछ नहीं करती। मुझे खाना बनाकर खिलाती-पिलाती है और क्या करती है।''
- तुम भीख माँगते हो और माँ कुछ नहीं करती, भीख माँगकर खिलाते हो उसे...।''
- ' माँ को उसका बेटा कमाकर नहीं खिलाएगा तो फिर कौन खिलाएगा ?'' लड़के ने करारा जवाब दिया। मेरे चेहरे का रंग बदल गया। जैसे मैं उसके सामने बहुत बौना हो गया हूँ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें