इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 30 मार्च 2013

नाटक का शेष हिस्सा जीवन यदु

कविता
डाँ जीवन यदु
सुनें ! सुनें ! भाई - बहन सभी सुनें !
आज इस नुक्‍कड
हम खेलने जा रहे है एक नाटक
इसलिए आप सभी
कान खोल कर देखें
और आंखें खोलकर सुनें
अपने ही शबदों को आप ही गुनें

सुनें ! सुनें ! सभी जन सुनें
और जो श्रीमन्त है,महा - जन है
जो सचमुच  के नाटकबाज है,सत् - जन हैं
वे न चाहें, तो न सुनें
वे अब तक -
अपनी बंदूकों के लिए
ऐसी गोलियां चुनें
कि जिसकी मार से मारे जा सके शब्‍द ।
और यदि देखना चाहे वे भी
तो अवश्य  देखें,
यदि सुनना चाहें वे भी
तो अवश्य  सुनें
हाथ मलें और सिर धुनें
सुनें ! सुनें ! सुनें ! सभी सुनें ।

हमारे इस नाटक का नाम है -
आदमी की लम्बाई उर्फ्
एक शब्‍द है आदमी
(क्‍या बात है कि इस नुक्‍कड़ पर
याद आ रहे है सफदर हाशमी)
नाटक का नाम बहुत लम्बा है
बहुत लम्बा है नाटक भी
नाम की लम्बाई पर मत जायें
नाटक को उसकी लम्बाई में देखें
देखें कि कोई आदमी
कितना लम्बा हो सकता है शब्‍दों के साथ
कि उसकी एक घायल चीख
सुनी जाती है दूर - दूर तक ।

अभी इस नाटक में
आप देखेंगे कि एक आदमी
पूरी ताकत से उछाल कर कुछ शब्‍द
आपके बीच  शामिल हो जायेगा
और आप ही में खो जायेगा
आपके अंदर कुछ शब्‍द बो जायेगा
और आप ही में खो जायेगा
अभी वह इस नुक्‍कड़ पर मरेगा -
लेकिन हारी - बीमारी से नहीं,
बुढ़ापे की लाचारी से नहीं
वह जब मरेगा
तो इस लम्बे नाटक को
अपनी लम्बाई पर ले जायेगा
अपनी शेष उम्र -
अपने शब्‍दों को दे जायेगा ।

अच्छा तो, अब शुरू कर रहे हैं खेल
अब तक -
श्रीमंत और महा - जन
समाज के स्वयं - भू कणर्धार
चढ़ा चुके होंगे अपने छुरों पर धार
कर चुके होंगे अपने गुण्‍‍डों को तैयार
फूंक चुके होंगे मंत्र - मार - मार - मार
चुन चुके होंगे गोलियां
साफ कर चुकें होंगे बंदूकें
इस बार वे मत चूकें
मार कर बतायें शब्‍दों को

सुनें ! सुनें ! भाई - बहन सभी सुनें ।
सावधान कि कोई गोली
लग सकती है आपको भी
छुरे घुस सकते हैं भुक्‍क से
आपकी भूखी अतड़ियों में
सिर पर हो सकते हैं लाठियों से प्रहार
पीठ पर खा सकते है -
नाल ठुंके जूतों की दनाकेदार ठोकर
आपके बीच  से -
कोई भी उठ सकता है
रामपाल होकर ।
सावधान रहें और देखें
कि कोई आदमी
शब्‍दों में कैसे बदलता है
कि एक लोहे का टुकड़ा
जवाबी हमले के लिए
हथियारों में कैसे ढ़लता है ?

जब बंदूक की आवाज
और आदमी की चीख एक साथ सुनें
तो ध्यान रहे -
खतम नहीं समझ लें
पूरा नाटक,सारा किस्सा
कल इसी नक्‍कड़ पर
फिर खेला जायेगा
इस नाटक का शेष हिस्सा ।
                                    गीतिका
                                दाउ चौरा, खैरागढ़
जिला - राजनांदगांव  (छग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें