इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

सोमवार, 25 मार्च 2013

कॉपीराइट के संबंध में

                        
साहित्य - कला - संस्कृति की त्रैमासिकी पत्रिका विचार वीथी पूर्णत: अव्यवसायिक पत्रिका है। इस पत्रिका का उद्देश्य पाठकों को साहित्य - कला - संस्कृति से जोड़ना तथा अधिकाधिक साहित्यिक गतिविधियों को पाठकों के मध्य पहुंचाना है। इसमें प्रकाशित रचनाएं लेखकों के स्वयं के विचार होते हैं। विचार वीथी में प्रकाशित रचनाओं से प्रकाशक - संपादक का सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
इस पत्रिका में प्रकाशित रचनाएं विभिन्न श्रोतों से प्राप्त होती हैं। इस पत्रिका में किसी भी रचनाकार के रचना प्रकाशन के साथ उनका नाम दिया जाता है तथा यह प्रयास रहता है कि जिन रचनाकारों की रचनाएं प्रकाशित हुई उन तक भी विचार वीथी पहुंच सके जिससे उस रचनाकार को उचित सम्मान मिल सके तथा उनकी रचना से वे पाठकवर्ग भी जुड़ सके जो अब तक वह रचना नहीं पढ़ पाये हैं जो कि इस पत्रिका में प्रकाशित की जा रही है।
विचार वीथी का उद्देश्य किसी भी रचनाकार या प्रकाशक को किसी भी तरह की आर्थिक हानि पहुँचाना नहीं है। अपितु अच्छी साहित्य को अधिकाधिक पाठकों के मध्य पहुंचाना है। फिर भी यदि किसी रचनाकार - कॉपीराइटधारक को कोई आपत्ति है तो उनसे अनुरोध कि साहित्य के प्रचार - प्रसार को ध्यान में रखते हुए विचार वीथी द्वारा अनजाने में हुई भूल को क्षमा करें तथा काँपीराइट धारक को कोई आपत्ति हो तो वे पत्र व्यवहार या अन्य माध्यम से सम्पादक को सूचित करे ताकि ऐसी रचनाएं जो कॉपीराइट के दायरे में आते हैं केप्रकाशन के पूर्व रचनाकारों - प्रकाशकों से सहमति पत्र लिया जा सके। 
विचार वीथी में प्रकाशित सामाग्री के किसी भी प्रकार के उपयोग के पूर्व लेखक प्रकाशक - संपादक की सहमति अनिवार्य है 0  किसी भी प्रकार के वाद - विवाद एवं वैधानिक प्रक्रिया केवल राजनांदगांव न्यायालयीन क्षेत्र के अंर्तगत मान्य।
                                                                        संपादक
                                                        वार्ड नं. - 16, तुलसीपुर
                                                        शास्त्री चौक, राजनांदगांव
                                                        मोबाईल - 94241 - 11060

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें