इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

सोमवार, 22 अप्रैल 2013

बिरिज कस मोर गाँव

कविता

  • आनंद तिवारी पौराणिक
बरदी के लहुटती
    गली,खोर, येती वोती
    अंगला, दुआर, कुरिया, मकान
    रूख, राई, रद्दा, रेंगान
    जम्मों धुर्रा म बोथाथें
    गईया, बछरू, अन्ते - तन्ते छरियाथे
बरदिहा ह, ह, ह,ह,ह, चिचियाथे
    बन्सी ल बजाथे
    सुरता म मोर भुलाये कन्हैया
    बिरिज कस मोर गाँव भइया
धुर्रा ह तभे चंदन कस
माथ म फबथे कन्दन अस
    जूड़ के घाम दूबर - पातर
    सूरूज नारायन जावत हे अपन घर
खोंदरा म चिरगुन - चिरई
मिट्ठू, मैना, पड़की, सल्हई
    घूमत किंजरत, जंगल - झाड़ी
    पिला बर चारा काड़ी
हम्मा - हम्मा नरियाये, बछरू अउ गईया
सुरता आयव मयारू जसोमति मईया
    देखते - देखत दिन हा पहाथे
    घोर अंधियारी ह घबटाथे
तुलसी चउँरा म होथे दीया बाती
मंदिर - देवाला म भजन आरती
    कदम के सुघ्घर छाँव कस
    नन्द बबा के गाँव कस
मंजूर पाखी आथे अँजोर बगरईया
सुरता आये गोपी अऊ रास - रचईया
    नवा बिहाती कस
    रतिहा ह संवरथे
    पिरीत के लहरा ह,
    मन, समन्दर म संचरथे
नंदिया के धार कस,
अन्तस ह मिंझरथे
सपना के नवा अरथ
जिनगी ह पाथे
    जी, म होथे तभे छपक - छईयाँ
    राधा तिर आ जाथे,किसन - कन्हैया।
  • पता - श्रीराम टाकीज मार्ग, महासमुन्द (छग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें