इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

रविवार, 21 अप्रैल 2013

रमेश चन्द्र शर्मा '' चन्द्र ''दो गीतिकाएं

 
रमेश चन्द्र शर्मा '' चन्द्र ''
    1
प्रेयसी के नाम पर प्यारी ग़ज़ल
जिन्दगी से आज वह हारी ग़ज़ल

क़ाफ़िये भी ठीक से मिलते नहीं
शाइरों की बुद्धि ने मारी ग़ज़ल

बन के माली लूटते हैं जो चमन
संग चमन के कैसी गद्दारी ? ग़ज़ल

बहिन, बेटी कह रहे व्यवहार में
नज़र उनकी लगती बाज़ारी ग़ज़ल

देखकर मौसम बदलने चाहतें
देखिये कितनी अदाकारी ? ग़ज़ल

अब न चुप बैठे दहाड़े जा रही
सिंहनी सी आज की नारी ग़ज़ल

कौन करता प्यार निर्धन से यहॉ ?
जिन्दगी बिन प्यार दुखियारी, ग़ज़ल
     2
बात - की - बात थी
जीत भी मात थी
चाँदनी थी खिली
मदमस्त रात थी
आप रूठे रहे
आपकी बात थी
हम खिलाड़ी नये
मात - पर - मात थी
आँसू रूकते नहीं
कैसी सौगात थी ?
हम अकेले नहीं
बेबसी साथ थी
जिन्दगी, मौत भी
आपके हाथ थी
पथ का रोड़ा बने
किसकी औकात थी ?
सुख ? आज और अबïï
दुख ? कल की बात थी।
पता - डी 4, उदय हाउसिंग सोसाइटी
वैजलपुर, अहमदाबाद - 380051

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें