इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 4 अप्रैल 2013

नारी अबला नहीं

कविता 

  • श्रीमती राधिका सोनी

नारी कब थी अबला बोलो ?
मत कड़वाहट घोलो
जो जग की है सृष्टि जननी
जो है बेटी भगिनी
कभी धर्मपत्नी कहलाती
उसकी करूणा, स्नेह में जी लो
नारी कब थी अबला बोलो ?

विदुषी वह थी वेदकाल में
वीरांगना थी युद्धकाल में
कभी दया की प्रतिमा थी
कभी प्रेम की गरिमा थी
अपने मन में तो तौलो
नारी कब थी अबला बोलो ?

वही मदालसा, राधा, सीता
वही सावित्री, गंगा गीता
लक्ष्मीबाई रानी झांसी
वही है गंगा, मथुरा कांशी
कदम - कदम पर साथ तो हो लो
नारी कब थी अबला बोलो ?

नई सही है नया जमाना
छोड़ो राग पुराना
चरणों की दासी मत कहना
अपने सा बराबर समझना
सामंती युग में मत डोलो
नारी कब थी अबला बोलो ?
पता - क्‍लब पारा, महासमुंद (छग) 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें