इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 10 अप्रैल 2013

काबर के ओहर गरीब हर ये

कविता

  • पवन यादव '' पहुना ''
बीपत के मोहरा
दुख ऊपर दोहरा
भूखे उठावे
फिकर भर ये
काबर के ओहर गरीब हर ये।

तन हाड़ा - हाड़ा
करजा गाड़ा - गाड़ा
जोत्था के जोत्था
लटलट ले फरे
काबर के ओहर गरीब हर ये।

लहू सुखागे
पोटा अइठागे
दरिद्री के आगी
बंग - बंग ले बरे
काबर के ओहर गरीब हर ये।

कोनो नहीं पूछंता
नहीं कोनो तरंता
हवे कहाँ ककरो
करा समे
काबर के ओहर गरीब हर ये।

जिनगी के गाड़ा
बछुवा के माड़ा
सरी बिपति
ऐखरे बर ये
काबर के ओहर गरीब हर ये।
ग्राम - सुन्दरा, जिला - राजनांदगांव ( छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें