इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

मंगलवार, 16 अप्रैल 2013

अनुत्तरित प्रश्नों के मेले

कविता

  • दादूलाल जोशी '' फरहद ''
पांव रखें फूंक - फूंक कर, आँख खोल कर चलें।
झूठी होती आंखन देखी, सच होती अटकलें॥

    हाथ हमारे बहुत बौने,
    माने या न माने,
    आसमान में, पंख लगाकर
    उड़ते हैं दाने॥
नारे उगे खेतों में, आंगन में गेहूँ के गमले।
झूठी होती आंखन देखी, सच होती अटकलें॥

    आकृतियां हैं आदमी,
    नोटों के नपने
    देखकर मगन है भोर भी,
    खून सने सपने,
जख्मी और, विकृत होती आस्था की शकलें।
झूठी होती आंखन देखी, सच होती अटकलें॥

    लगे हैं, गली - गली,
    अनुत्तरित प्रश्नों के मेले,
    रोज नये करतब है
    जी भर कर खेलें,
समाधान सम्मुख, सभी, झांक रहे बगलें।
झूठी होती आंखन देखी, सच होती अटकलें॥
पता -  ग्राम - फरहद, पोष्ट - सोमनी
जिला - राजनांदगांव ( छग. )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें