इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

मंगलवार, 16 अप्रैल 2013

दर्पण में दोष नहीं ...

 कविता

  • विद्याभूषण मिश्र
सबसे कठिन आदमी को है, आज समझ पाना।
लोग चाहते हैं बातों को, ज्यादा उलझाना॥
    बड़ी बड़ी बातों की दुनिया
        भीतर रोश नहीं।
    युग है आज मुखौटों का
        दर्पण में दोष नहीं।
भीतर ईर्ष्या - द्वेष पालते, बाहर मुस्काना।
सबसे कठिन आदमी को है, आज समझ पाना॥
    आज खुशामदखोर अहं के
        गरल उगलते हैं।
    करते हैं बाहर से सौदा
        भीतर बिकते हैं।
बुझे दीपकों को मुश्किल है, पुन: जला पाना।
सबसे कठिन आदमी को है, आज समझ पाना॥
    रिश्ते - नाते हुए खोखले
        मुंह देखा व्यवहार।
    उल्लू सीधा करने वालों
        की है आज कतार।
जब सइयाँ कोतवाल तो काहे, को है भय खाना।
सबसे कठिन आदमी को है, आज समझ पाना॥
    पल - पल डींग हाँकते रहते
        यश दुहराते हैं।
    चमचे स्वारथ का रस पीने
        शीश झुकाते हैं।
किन्तु असंभव है खोटे सिक्कों, का चल पाना।
सबसे कठिन आदमी को है, आज समझ पाना॥
 पता - पुरानी बस्ती, ब्राहा्रणपारा
मु.पो. - जांजगीर ( छग.)  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें