इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

गुरुवार, 4 अप्रैल 2013

दो कविताएं


  • संतोष श्रीवास्तव ' सम'
भोर का तारा
नभ में
अनेक तारे
रात्रि में
रौशनी बिखेरते हैं
टिमटिमाते तारों में,
उस एक तारे का
टिमटिमाना
अलग होता है
उस तारे की चमक
अनेकों पर भारी पड़ती है
उसका देदीप्यमान प्रकाश,
कोई लघु चांद
बन जाने उत्सुक है
वह मोह से दूर
माया से दूर
संकीर्णताओं से परे
सबसे पृथक
अपने अस्तीत्व की
तलाश में फिरता
सारा नभ
उसे छोटा दिखता है
वह किसी रात्रि में
नहीं रहना चाहता
वह प्रात: की ओर
गमन कर जाता है
वह भोर का तारा
बन गया है।
कुंए का अस्तीत्व
वह कुंआ थोड़े जल को
लिए सोचता है -
मुझमें दुनिया डूब सकती है
मेढकों का डूबकियां लगाना,
संसार के प्राणियों का
तरना समझता है।
कुंआ वृहत बन चुका है,
अपने आप में।
वह सोचता है -
दुनियां इतनी है
कुछ कीटों को वो,
दुनिया के सारे प्राणी
समझने लगा है।
किसी समय
कुंए के घेरों के
टूटने पर
जब उसका जल
समुंदर में
गमन कर जाता है,
तो जल वहां
कुंए का नहीं
समुंदर का हो जाता है
और उसे याद आता है
अपने कुंए का अस्तीत्व।
पता - शिक्षक,सरस्वती शिशु मंदिर उ.मा.विद्यालय,
भानुप्रतापपुर, जिला - कांकेर ( छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें