इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

रविवार, 21 अप्रैल 2013

जब तुम्हारी जिन्दगी

 कविता

संदीप भारती '' होरी ''
जब तुम्हारी जिन्दगी
कोई नाग का वंशज डसे
गीत भर लेना अदिबो उम्र की मधु प्याली में
हर तरह का विष उतर सा जायेगा
ऑसू के संग - संग लहू की लाली में
एक नया आसव स्वत: घुल जायेगा।

जब तुम्हारी जिन्दगी टीसता हुआ कोई घॉव हो
प्यार एक उजड़ा हुआ वीरान कोई गॉव हो
प्यासे होठों पर पड़ा हो आह का सागर
तप रहे सिर से जुदा हो नम्र वक्षस्थल
ढूंढना मेरा पता अक्षर के इस संसार में
दर्द का हर द्वार खुलता जायेगा।

जब तुम्हारी जिन्दगी
भय का नया विस्तार हो
मौत को मजहब बना इंकलाब कर देना
खून की बूंदों पर ताज - ओ - तख्त क्या टिक पायेगा
बौरेगा जन का ह्रदय फिर प्यार की अमराई में
झूमेगा मन सरसों किसी चाह की फगुनाई में।
  • पता - विष्णु मंदिर के पीछे,कहरा पारा, जांजगीर,जिला - जांजगीर - चांपा (छग)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें