इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 6 मई 2013

स्‍वतंत्रता पर्व



  • संतोष प्रधान ' कचंदा' 
सारे भारत देश में, लहर - लहर लहराये तिरंगा।
स्वतंत्रता के पावन पर्व पर, जन में उठी उमंगा॥
ये भारत वर्ष हमारा, प्राणों से भी बढ़कर प्यारा।
गली - गली प्रभात फेरी में, गूँज रहा है ये नारा॥

खुशियाँ छायी जन - जन में, तन भी हो गया तिरंगा।
स्वतंत्रता के पावन पर्व पर, जन में उठी उमंगा॥
वीर बहादुर जवानों का, कर लो कुर्बानी याद।
गुलामी की जंजीर तोड़, अंग्रेजों से किया आजाद॥

आजादी की सौगात देकर, छोड़ चले सब संगा।
स्वतंत्रता के पावन पर्व पर, जन में उठी उमंगा॥
हो गयी समाप्त जब, सहनशीलता की मर्यादा।
मन में जागृत हुआ, स्वाधीनता प्राप्ति का इरादा॥

स्वाधीन किया वतन को, बहाकर खून की गंगा।
स्वतंत्रता के पावन पर्व पर, जन में उठी उमंगा॥
सारा देश ऋणि है, शहीद हुए वीर जवानों का।
सदा नत नमन करेगा, ऐसा महा वीर महानों का॥

पन्द्रह अगस्त अमर रहेगा, याद में इसकी जंगा।
स्वतंत्रता के पावन पर्व पर, जन में उठी उमंगा॥

पता - मु. - कचंदा, पो . - झरना,
व्हाया - बाराद्वार, जि - जांजगीर(छग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें