इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

सोमवार, 6 मई 2013

दिसम्बर की रात आखिरी

  •  हरप्रसाद ' निडर' 
दिसम्बर की रात आखिरी
    नये साल का बेला है।

लल्लू अजगर मस्त पड़ा है, पीकर गंदी नाली में।
उल्लू खूब नहा रहा है, गंदी - गंदी गाली  में॥
    नया साल झमेला है।

दास गरीबा खोज रहा है, बासी घर की हाड़ी में।
अमीर ऐयाशी में लपटाया है, रंडी की साड़ी में॥
    नया साल रंगरेला है।

गोवा में नेता जी पीकर, मटक रहा है बार में।
बेटा चिलम खींच रहा है नाईनटी की रफ्तार में॥
    नया साल रसेला है।

चोर फटाका फोड़ रहा है, चढ़ ऊँची दीवार पर।
सिपाही भी झाँक रहा है, बैठे - बैठे द्वार पर॥
    नया साल का चेला है।

जुआड़ी है खेल रहा, नये साल की दांव में।
साहूकार भी बांट रहा है, दस सैकड़ा भाव में॥
    नया साल का मेला है।

युवक - युवती नाच रहे हैं, देखो दरिया पार में।
खूब मदिरा बंट रही है, पंचों के दरबार में॥
    नया साल अलबेला है।

पता - गटटानी कन्या शाला के सामने
अकलतरा रोड, जांजगीर (छग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें