इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

रविवार, 5 मई 2013

भेद - भाव झन लावा


  • विद्याभूषण मिश्र
जात - पाँत के गइस जमाना, गुन के मान बढ़े हे।
कँटही बमरी के ऊपर मा, बोदी नार चढ़े हे॥
    छुआछूत के बात ल टारा
        मन के दिया जलावा।
    दया - मया के नवा अँजोरी
        ले अँधियार भगावा॥
अँधरा के आँखी खुल जाही, जेमा प्रेम भरे हे।

    जेकर खाथन - पीथन ओहर
        सबके धरती मइया।
    सबे जात के जल गंगाजल
        शिवजी मान रखइया॥
जगन्नाथ जी के द्वार हर, सब बर खुले खड़े हे।

    घाठ - घठौंधा अलग - अलग हें
        अब ये सोच मिटावा।
    हमर उँकर पारा कहि - कहि के
        भेद - भाव झन लावा॥
धान के बिरवा अलग - अलग हे, एक्के रंग भरे हे।

    रंग - रंग के फूल भले हें
        माला एक कहाथे।
    भारत माता ओला पहिरै
        जय - जय सुर लहराथे॥
सत्य - अहिंसा काते बर, मन चरखा चरर चले हे।

पता- पुरानी बस्ती, ब्राम्‍हणपारा, मस्जिद मार्ग, मु.पो. - जांजगीर(छग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें