इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

रविवार, 5 मई 2013

अब सिलसिला

  • अशोक ' अंजुम ' 



चल रहा है अजब सिलसिला
कीजिए देश को पिलपिला
०००
मत दुहाई करॅप्शन की दो
तुमको शायद नहीं कुछ मिला
०००
बन गये मुख्यमंत्री वे अब -
गाँव उनका बनेगा जिला
०००
सबका ईमान है हाट में
दाम जो भी मिलें, बस मिला
०००
याद हैं अब युवाओं को बस
माधुरी, चावला, उर्मिला
०००
यार कुर्सी पे आने तो दे
सब मिटा दूंगा शिकवा -गिला

डाकू हो गए

कुछ तमंचे, शेष चाकू हो गए
यार मेरे सब हलाकू हो गए

वे इलेक्शन में जो हारे इस दफा
खीजकर चम्बल के डाकू हो गए

नग्न - चित्रों को पलटते थे मियाँ
हम समझते थे पढ़ाकू हो गए

बाद शादी के वो कुछ ही साल में
उम्र - वालों के भी काकू हो गए

देख लो बापू वे बन्दर आपके
आजकल बेहद लड़ाकू हो गए

पता - सम्पादक -प्रयास 615,ट्रक गेट,
कासिमपुर 6 पा.हा. 8 अलीगढ़ (उ.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें