इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

रविवार, 5 मई 2013

अब सिलसिला

  • अशोक ' अंजुम ' 



चल रहा है अजब सिलसिला
कीजिए देश को पिलपिला
०००
मत दुहाई करॅप्शन की दो
तुमको शायद नहीं कुछ मिला
०००
बन गये मुख्यमंत्री वे अब -
गाँव उनका बनेगा जिला
०००
सबका ईमान है हाट में
दाम जो भी मिलें, बस मिला
०००
याद हैं अब युवाओं को बस
माधुरी, चावला, उर्मिला
०००
यार कुर्सी पे आने तो दे
सब मिटा दूंगा शिकवा -गिला

डाकू हो गए

कुछ तमंचे, शेष चाकू हो गए
यार मेरे सब हलाकू हो गए

वे इलेक्शन में जो हारे इस दफा
खीजकर चम्बल के डाकू हो गए

नग्न - चित्रों को पलटते थे मियाँ
हम समझते थे पढ़ाकू हो गए

बाद शादी के वो कुछ ही साल में
उम्र - वालों के भी काकू हो गए

देख लो बापू वे बन्दर आपके
आजकल बेहद लड़ाकू हो गए

पता - सम्पादक -प्रयास 615,ट्रक गेट,
कासिमपुर 6 पा.हा. 8 अलीगढ़ (उ.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें