इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

बुधवार, 12 जून 2013

गौ हत्‍या

  • सुरेश्‍ा सर्वेद 
ननकी ने कभी सोचा भी नहीं था कि उस पर इतना बड़ा आरोप मढ़ दिया जायेगा. अंधेरी कोठरी में वह बैठा था. कोठरी की अंधियारे से कही अधिक अंधेरापन उसे अपने भीतर महूसस हो रहा था. वह अंधेरेपन उसे खाये जा रही थी. उसमें विचार उठ रहा था - क्‍या सेवा श्रुषवा का ऐसा परिणाम निकलता है ?क्‍या वह व्‍यक्ति उसकी हत्या कर सकता है जिससे उसे असीम लगाव हो ? क्‍या वह अपने सबसे प्रिय  को ही अपने से दूर करने का प्रयास कर सकता है ? ऐसे अनेक प्रश्न उसके दीमाग में कुलबुलाने लगा था, पर इन सारे प्रश्नों का उत्तर वह स्वयं नहीं खोज पा रहा था.
ननकी इस बात पर भी सहजता पूवर्क विश्वास नहीं कर था कि जो समाज, जो परिवार उसकी गौ सेवा की प्रशंसा करने से जरा भी नहीं चूकते थे. वही परिवार, वही समाज उस पर गौ हत्या का आरोप मढ़ाकर हिकारत की दृष्टि उस पर डालेगा. दूसरों की बातें तो छोड़ों, उसकी स्वयं की पत्नी - रमशीला. वह पत्नी जिसने सात फेरे लेकर अग्नि के समक्ष सात जन्मों तक सुख - दुख में साथ निभाने सौगंध ली थी, वह भी दोषारोपण करने से नहीं चूक रही थी. जब छाया ही साथ न दे तो व्यक्ति कर भी क्‍या सकता है ? उसकी पत्नी रमशीला उसकी छाया ही तो थी. वह भी उसका साथ देने के बजाय  उसके विरूद्ध चली गई थी. ननकी की गाय  की मृत्यु के लिए सारे जिम्मेदारी ननकी पर मढ़ने से भी नहीं चूकी थी. ननकी आखिर करें तो करें क्‍या ? उसके हिस्से में तो परिवार समाज ने पश्चाताप को सौंप दिया था. वह प्रतिकार करें भी तो करें कैसे ! उसका सुनने वाला कौन था ! एक भी उसके साथ होता तो वह एक बार प्रतिकार करने या फिर अपनी सफाई देने का साहस कर सकता था पर यहां तो सब के सब उसके कृत्य को घिनौना बताने, प्रमाणित करने से नहीं चूक रहे थे.
अंधेरी कोठरी में उसे गुढ़ी चौंरा में आयोजित बैठक में जुरयाये ग्रामीणों के चेहरे दिख रहे थे. उस बैठक में जुरयाये ग्रामीणों की जुबान सुनाई दे रही थी. गांव के ऐसे - ऐसे लोग भी उस बैठक में आ पहुंचे थे जिन्हें कभी गांव की बैठक से कोई सरोकार नहीं होता था. बैठक में जुरयाये ग्रामीण उस पर गौ हत्या का आरोप लगाने कोताही नहीं बरत रहे थे और घृणित दृष्टि डालने से बाज नहीं आ रहे थे.
गुड़ी चौरा में जुड़ी बैठक में दो पक्ष प्रस्तुत ननकी गौ प्रेमी है मगर इसके कृत्य  से ऐसा प्रतीत होता है इनकी गौ प्रेम महज दिखावा और छलावा है । मैं समझता हूं जहां ननकी का कर्म गौ हत्या ही है बाकी पंचायत का निणर्य  .....।
अवसर मिला था तो जगनू भी बोलने से क्‍यों चूकता । उसे उस दिन की याद हो आया जब उसकी गाय  ननकी की खेत में धान चर गयी थी और ननकी ने उसे खेत से हकालने के बाद जगनू को समझाइस दी थी - '' देख जगनू जब तब तेरे जानवर खेत में घूस आते हैं । फसल की बबार्दी करते हैं । तुम इन्हें अपने घर में बांधकर रखा करो या फिर च रवाहे को हिदायत दे दो कि गाय  अब बरदी छोड़कर न भागे वरना मुझे विवश होकर कांजी हाऊस ले जाना पड़ेगा ।''
जगनू के जानवर भोगोड़े थे । बरदी से छंटकर कब खिसकते चरवाहा भी नहीं समझ पाता था । तब भला चरवाहा करता भी क्‍या ? एक दो बार जगनू ने चरवाहे से कहा तो चरवाहे का जवाब यही था कि पूरे गांव के जानवर एक तरफ तो तुम्हारे जानवर एक तरफ । पलक झपकते ही बरदी से छंट जाते हैं । वापस बरदी में लाने दौड़ों तो हाथ नहीं आते । अब तुम्हीं बताओ एक जानवर के पीछे मैं कहां तक दौड़ लगाऊ । बेहतर तो यही है कि इन्हें अपने घर पर ही बांध के रखो ।''
चरवाहे की बात से जगनू तिलमिला तो गया था पर करता भी ? उसके एक जानवर के यह हाल होता तो घर में सम्हाल कर रख लेता मगर उसके दो बैल, दो गाय  ऐसे चार जानवर थे । इन्हें भला वह घर में बांधकर रखता तो रखता कैसे ! आलम यह था कि इन चारों जानवरों में से एक भी ऐसे जानवर नहीं था जो बरदी में पूरे के पूरे दिन रहे । वे बरदी से ऐसे खिसकते मानों सुनियोजित कायर्क्रम हो । ननकी की भाषा और कई ग्रामीण बोल चुके थे । मगर जगनू करें तो करें क्‍या ? उसे जानवरों के कारण आये दिन सुनना ही पड़ता था । आज जगनू को सुनाने का अवसर मिला था । उसने कहा - राम्हू का कहना अनुचित नहीं लगता । वास्तव में यदि ननकी के मन में जानवर प्रेम रहता तो मुझसे यह कभी नहीं कहता कि तुम अपने जानवरों के घर में बांध कर रखो वरना कांजी हाऊस में डलवा दूंगा । मेरी तो सलाह है ननकी के अपराध को सामान्य  अपराध न माना जाये । इसे कड़ा दण्‍ड ही दिया जाये । जहां तक इसकी गाय  के मौत का सवाल है तो मुझे तो लगता है इसने जानबूझ कर गाय  को इतनी जोर से धक्‍का दिया कि गाय  वहीं पर ढ़ेर हो गई ।''
जगनू की बात ननकी को चुभ गई पर चार समाज के बीच  अपनी सफाई दे तो दे कैसे । जो पत्नी उसके हमसफर थी । सुख - दुख में साथ देती थी वही आज पंचायत के मध्य  उसके विरूद्ध चली गई थी तो फिर उसकी सफाई का असर समाज पर होने का प्रश्न ही नहीं उठता । उसने सिर नीचे करके पंचायत से कहा - मैं अपनी सफाई में क्‍या कहूं ? कहूं भी तो क्‍यों ? पंचायत मेरी सफाई पर गौर करेगी ऐसा मुझे कहीं नहीं लगता । पंच परमेश्वर यहां उपस्‍िथत हैं जो निणर्य  होगा, मुझे स्वीकार हैं ।''
पंचायत में जुड़े लोगों के बीच कांनाफुंसी हुई । निणर्य  सुनाने के लिए सलाह मश्विरा हुआ और पंचायत ने अपना निणर्य  सुनाते हुए कहा - ननकी से जो अपराध हुआ वह गौ हत्या की कड़ी में आता है । गौ हत्या महापाप है । इसके प्रायश्चित का भी हल हमारे समाज ने निकाला है । ननकी को इक्‍कीस दिन तक उसी कोठे में काटने होंगे । इस इक्‍कीस दिन की अवधि में न वह कोठे से बाहर आयेगा और न ही कोई उससे कोठे में मिलने जायेगा । सिर्फ उसकी पत्नी उसे समय  पर भोजन परोस दिया करेगी वह भी परदे की ओट में .....। इस अवधि में जिस किसी ने ननकी को देखा तो वह भी दण्‍ड का भागीदार होगा, चाहे उसकी पत्नी रमशीला ही क्‍यों न हो ?''
पंचायत के निणर्य  के बाद उसे कोठे में धकेल दिया गया । जहां उसे उन दिनों की याद आने लगा जब उसने मालती को पहली बार अपने कोठे में लाकर बांधा था । मालती को जब वह सरजू से खरीदने गया तो सरजू की मर्जी चली , उसी के ही भाव पर खरीदना पड़ा था । उसने मालती को अपने घर लाया तो उसकी धमर्पत्नी रमशीला फुली न समायी । उसकी स्वयं की इच्छा थी कि उसके घर भी एक गाय हो । गाभीन हो और बछड़े हो । घर का ही दूध, दही, मठा खाने को मिले । जाने वह कोठे कब से वीरान पड़ा था । जब वह पहली बार बिहा कर आयी थी तो उस कोठे में एक मरियल सी गाय बंधी थी । और कुछ ही दिन बाद वह चल बसी थी । तब से उसने कोठे की ओर झांक कर देखने की आवश्यकता महसूस नहीं की थी पर अब तो मालती आ गयी थी । पहले तो उसे आंगन में बांधा गया फिर कोठे की साफ - सफाई कर उसे वहीं बांध दिया गया ।
मालती की देखरेख में न कभी रमशीला चुकती थी और न कभी ननकी । समय  बार दानापानी मिलते रहा और मालती फुनाती गयी । दिन सरका और एक अवसर ऐसा आया जब मालती गाभिन हो गई तब ननकी के साथ रमशीला की खुशी का ठिकाना नहीं रहा । उसने समय  पर एक स्वस्थ बछड़े को जन्म दिया । अब तो मालती की देखरेख और सेवा और भी बढ़ गयी । मालती दूध देने लगी । दूध से दही और मठा तो बना ही साथ ही घी का भी स्वाद चखने को मिलने लगा ।
ननकी खेती  - किसानी से थक मांद कर आता. रमशीला उसे भोजन परोस खाने के लिए चिल्‍लाती रहती पर ननकी मालती के बछड़े के साथ खेलने लग जाता. फिर वह मालती के लिए कोठे में घास डालने चला जाता. रमशीला कहती रहती - मालती तो शाम को बरदी से लौटेगी. वह भी घास चर कर फिर इतनी जल्दी भी क्‍या है ? पहले स्वयं तो भोजन कर लो फिर मालती के लिए घास डालते रहना परन्तु वह कोठे से ही चिल्‍लाकर अपनी पत्नी के बातों का उत्तर न देकर कहता - तुमसे एक काम नहीं किया जाता. कोठे को देखो कितनी गंदगी फैली है. मुझे तो लगता है तुम्हारा जरा भी ध्यान कोठे की साफ - सफाई पर नहीं रहता. तब रमशीला ताना मारती. कहती - ठीक है ... ठीक है. पहले भोजन कर लो फिर खुद कोठे को साफ कर लेना. और होता भी यही था. भोजन के तुरंत बाद ननकी झाड़ू लेकर कोठे में घूस जाता और सफाई करने लगता पर वहां गंदगी रहे उसे तो वह साफ करे न ? वह झाड़ू लेकर कोठे से बाहर हो जाता.
 जहां सुबह - शाम हरी घास देने की जिम्मेदारी ननकी पर थी वहीं गोबर उठाने कोठा साफ - सफाई की जिम्मेदारी निवर्हन करने में रमशीला जरा भी आलस नहीं दिखाती थी । रात में जब ननकी सोता तो मालती की बछड़े को अपने खाट के खुर से बांध रखता था । रात भर वह जितना ख्याल उसकी बछड़े का रखता था उतना ही ख्याल मालती का रखता था । जब - जब रात में उसकी नींद उचटती वह जरूर एक नजर कोठे में बंधे मालती पर डालता था । उसे सुगुन मिलता कि मालती पगुराती आराम कर रही है । सुबह होते ही चरवाहा पहुंच  जाता । चरवाहे की आने की भनक बछड़े को लग जाती थी वह हम्मा - हम्मा चिल्‍लाने लग जाता । कोठे में बंधी मालती भी आवाज देने लगती । चरवाहे बछड़े को खोल देता । बछड़ दौड़ कर माँ के पास पहुंचता और दूध पनपाने थन को चूसने लगता । कुछ देर बाद चरवाहा बछड़े को माँ से दूर कर देता और कसेली भर दूध दूहकर बछड़े को छोड़ देता तब बछड़ा माँ का दूध पीने लगता ।
ननकी ने कभी सोचा भी नहीं था कि गौ सेवा की उसे यह सजा मिलेगी पर अब करता तो करता क्‍या ? उस पर तो गौ हत्या का आरोप लग गया था और पंचायत ने उसे इक्‍कीस दिन तक बंद कोठे में सजा काटने का निणर्य भी दे दिया था । जैसे ही उसने कोठे में प्रवेश किया, मालती की तस्वीर उसकी आंखों के सामने झूलने लगी । उसे लगने लगा मालती मरी नहीं जीवित है पर सच्‍चाई यही थी कि अब मालती इस आसार - संसार से विदा ले चुकी थी । ननकी को इस बात का भी पश्चाताप था कि यदि मालती के खुर से उसका पैर दब गया तो हकालकर उसे दूर क्‍यों नहीं ? क्‍यों उसने मालती को परे धकेला जिससे मालती गिर गयी और उसका प्राणांत हो गया ? मगर अब जो होना था हो चुका था, अब कुछ किया नहीं जा सकता था । इक्‍कीस दिन की अवधि और उस कोठे में काटना जहां उसकी थोड़ी सी लापरवाही से मालती की मौत हो गयी थी काटना उसके लिए कठिन परीक्षा ही थी । इक्‍कीस दिन .... पूरे इक्‍कीस दिन, उसे तो इक्‍कीस जन्म के समान लगने लगा था । बाहर बछड़े की हम्मा - हम्मा उसके हृदय  को तार - तार कर रहा था । माँ से बछड़े को बिछुड़ाने में वह स्वयं का दोष मान रहा था इच्छा तो हो रही थी जा कर बछड़े को गले से लगा ले । उसे दुलारे - पुचकारे पर यह संभव कहाँ था । कोठे से निकलना तो दूर कोठे में किसी का प्रवेश भी वजिर्त था । उसकी पत्नी बाहर से ही कोठे के भीतर भोजन ढ़केल देती थी और चली जाती थी । दो तीन दिन तो ननकी से भोजन भी नहीं किया गया पर भूखा पेट रहता भी तो कब तक अभी तो उसे पूरे इक्‍कीस दिन काटने थे ।
समय  चलता गया । दिन सरकता गया । दिन की गिनती होती गयी । एक ... दो... तीन... बीस... पूरे बीस दिन हो गये ननकी को अंधेरे कोठे में कैद । वह रोशनी की तलाश में था । बाहर की रोशनी नहीं, उसे उस रोशनी की तलाश थी जिसमें इक्‍कीस दिन बाद उसे अपने कर्मों के पश्चाताप बाद रोशनी मिलनी थी । पाप धुलने के बाद मिलने वाली रोशनी । बीसवां दिन और बीसवां रात के अंतिम पहर में उसकी आंख उचट गयी थी । उसे लगा - यहीं कही मालती खड़ी है और अपने मालिक की इस ददूर्शा को देखकर बेहद दुखी है । उसकी आँखों में आंसू और ननकी उसे पोछने को प्रयास करने के बाद भी पोंछ नहीं पा रहा है ।
सूर्योदय को कभी कुछ ही क्षण बाकी था कि उसने मालती के बछड़े की आवाज सुनी । ननकी की पत्नी आंगन में झाडू मार रही थी । अचानक मालती के बछड़े ने गले में बंधी रस्सी तोड़ दिया और रमशीला उसे पकड़ पाती इसके पहले वह दरवाजे को धक्‍का देकर कोठे के भीतर प्रवेश कर गया । सूर्योदय हो चुका था । दरवाजे खुलते ही सूर्य की रोशनी कोठे में प्रवेश कर गया । बछड़ा जाकर ननकी के समीप खड़ा हो गया । ननकी उसे गले से लगा लिया । बछड़ा ननकी को चांटने लगा । ननकी को लगा - उसके सारे पाप धुल गये । उसकी आंखें छलछला आयी । वह पुन: बछड़े से लिपट गया । अब पूरे आंगन भर सूर्य की रोशनी फैल चुकी थी । ननकी को लगा - उसने जो अनजाने में अपराध किया उसकी सजा उसने भोग ली । उसके मन में जो अपराध बोध था वह खत्म हो गया और उस पर पोता गया कालिख दिन के उजाले के साथ मिट गया .........।
तुलसीपुर, राजनांदगांव (छग)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें