इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 12 जून 2013

तोर मया के


  • पीसीलाल यादव
तोर मया के दिया बारेंव मन में जब ले,
मोर जिनगी म उजियार, होगे गऊकी तब ले ।

मैं मया के आखर, तैं भाखा पिरित के,
अंतस ले झरे निसदिन, झिरिया रे गीत के ।

तोर पिरित के बिरवा, लगायेंव मन में जब ले,
मोर जिनगी म तिहार, होगे हे गऊगी तब ले ।

आ देख ले गोई तैं, मोर मन ल फरिया के,
तोर सुरता ल राखे हँव, मैंं हा घरिया के ।

तोर मया के चि नहा, धरेंव मन में जब ले,
मोर जिनगी के सिंगार, होगे हे गऊकी तब ले ।

पानी कस जुड़ अऊ, आगी कस तात रे,
पिरित करइया ह जानै, पिरित के बात रे ।

तोर गोठ ल मया के, गँठियायेंव मन में जब ले,
मोर जिनगी म बहार, होगे गऊकी तब ले ।
  • गंडई - पण्‍डरिया, जिला -राजनांदगांव (छ.ग.)
  •     मोबाइल - 94241 - 13122

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें