इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

शनिवार, 29 जून 2013

ओ सावन, ओ मनभावन



  • - धर्मेद्र गुप्त साहिल -
  •  
सरसा दे तृण - तृण, कण - कण।
पुलकित कर दे जगजीवन।।
ओ सावन, ओ मनभावन।
ओ सावन, ओ मनभावन।
खेतों में लहराते धान।
वसुधा को दें नवपरिधान।।
नव पल्लव, नव कुसुम- लता।
अवनि को दे रुप नया।
बन जाए भू नव दुल्हन।
ग्राम वधु गायें सावन।।
ओ सावन, ओ मनभावन।
ओ सावन, ओ मनभावन।
चहुं दिशि बरसे जीवनरस।
शुष्क हृदय हो जाए सरस।।
उर में भरे भाव परिमल।
दृग में उगे स्वप्न कोंपल।।
मृदु विचार हो, मृदु सृजन।
मृदु रचना हो, मृदु सृजन।।
ओ सावन, ओ मनभावन।
ओ सावन, ओ मनभावन।
बक - पिक- शिखी- हंस- दादुर।
सब क्रीड़ा को हों आतुर।।
जलधारा से रोमांचित।
दामिनी द्युति से हो कंपित
गायें मल्हार झूम के घन।
बूंदे नाचें छनन - छनन।।
ओ सावन, ओ मनभावन।
ओ सावन, ओ मनभावन।
  • पता - के - 3/ 10 ए, माँ शीतला भवन, गाय घाट, वाराणसी [उ. प्र.]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें