इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 27 जून 2013

दिन सँउर जाही



- आत्माराम कोशा '' अमात्य '' -

ककरो चेहरा ल नजर भर के देख ले
खुसी तँउर जाही तोर दिन सँउर जाही।

सँइत कोई बपुरी हा उंचकपारी हो
दुख बिसर जाही तोर दिन सँउर जाही।

जिनगी म दुखे - दुख हे, प्रेम के भूखे - भूख हे
कतका लुकाही ? तोर दिन सँउर जाही।

नजर म झन बिकार रहे, सतधरमी बिचार रहे
राहय न अऊ कुछु काँही ,तोर दिन सँउर जाही।

दुनिया के अड़बड़ ताना हे, नजरों ह गजब सियाना हे
कतको तोला भरमाही, तोर दिन सँउर जाही।

दुनिया के भाव ल देख झन, गलती ल कभू सरेख झन
आत्मा ल ठंडक पहुँचाही, तोर दिन सँउर जाही।

ककरो चेहरा ल नजर भर के देख ले
खुसी तँउर जाही, तोर दिन सँउर जाही।

  • पुराना गंज चौक, राजनांदगांव  (छ.ग.) मो. 81036- 60394

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें