इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 29 जून 2013

नव विश्वास जगाए बाबा



- इब्राहीम कुरैशी  -

जग की तृष्णा रोज - रोज आके हमें सताए बाबा।
दुर्जन हैं चहुँ ओर में इनसे कोई बचाए बाबा।।

छुपकर बैठे हैं हत्यारे यहां राहों में चौराहों में,
पथिकों की प्रतीक्षा करते शस्त्र छुपाए बाहों मे।ं
मंजिल को हम कैसे पहुंचे कोई हमें बताए बाबा।।

जितना रोकूं उतना बढ़ता मन में जग का आकर्षण,
यौवन बीत गया ये मुझको याद दिलाता हर दर्पण।
कुछ ऐसा प्रबंध करो ये फिर न कभी सताए बाबा।।

संबंधों के सेतु रचते जीवन अक्सर जाता बीत,
और विदा की बेला में क्या गाएं बासंती गीत?
वो सागर क्या जिसमें कोई सरिता आ न समाए बाबा।।

गहरे उतरें सागर में तो मोती मिल सकते हैं,
संकल्प करें तो सहरा में भी फूल खिल सकते हैं।
आशा ही हममें जीने का नव विश्वास जगाए बाबा।।
पता - स्टेशन रोड, महासमुंद  [छ.ग.]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें