इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

सोमवार, 3 जून 2013

जाड़ के कविता


  • आनंद तिवारी पौराणिक
(1)

सुरूर - सुरूर जुड़ हवा,
तापले अंगेठा एकेच दवा
खूंटी म कुरता, मुहाटी म जूता
खटिया दसा के सुते के बूता
असनाने हे सल्हई चिरई
नदिया म फजर ले
पांखी झर्रावत बइठे हे
काँपत हे जर ले
चलत हे दौंरी
होवत हे धान - मिंजई
अनधन सकबाही
जिनगी के कमई
टुरा ल जगाय बर
कमेलिन टुरी जोजियावय
बूता म जाय बर
घेरी - बेरी समझावय
डँगचगहा ह बिहनिया ले
दाँत कटकटावय
जूड़ म काँपत
अलहन ल देखावय
एक ठोम्हा चाँऊर
पेट दु बिता
जमों दुनिया बाँचत हे
जाड़ के कविता
(2) सुरता बीर नरायन के
सुरता बीर नरायन के
क्रान्ति के गीता - रमाएन के।
सुरता बीर नरायन के॥
सोनाखान के लाल रतन।
छत्तीसगढ़ के जीवन - धन॥
लड़े आजादी बर तैं लड़ई।
तोर करन का हमन बड़ई॥
होय अमर बलिदानी बनके।
सुरता बीर नरायन के॥
अंगरेजवा के अतियाचार।
दुकाल - अकाल म हाहाकार॥
भूखन लाँघन मरिन जनता।
जिये के बंद होगे रस्दा॥
लूटे गुदाम सरकारी अन के।
सुरता बीर नरायन के॥
भुइंया बर तैं त्याग करे।
क्रांति के अमर सहीद बने॥
चन्दा - सुरूज करिन प्रनाम।
अम्मर होगे तोरे नाम॥
महिमा माटी अऊ कन - कन के।
सुरता बीर नरायन के॥
  • गौरी कुंज, श्रीराम टाकीज मार्ग, महासमुंद (छग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें