इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

मंगलवार, 4 जून 2013

संजोये रखना पानी

  • अंकुश्री

शीतलता है पानी
निर्मलता है पानी
गरमी तपिस बुझाय
ठंड कराता पानी।
प्यास बुझाता पानी
भूख भगाता पानी
हार चुके जीवन में
आस जगाता पानी।
सुंदरता का पानी
पुरूषार्थ का पानी
आजादी की याद करें
होता काला पानी।
घोड़ा का हो पानी
थोड़ा सा हो पानी
सभी बचाये रखतें
अपना छड़हर पानी।
सूखा में भी पानी
दहाड़ में भी पानी
यह बूते की बात है
बचाये रखना पानी।
उतर न जाये पानी
चढ़ाये रखना पानी
बड़ा ही अनमोल है
संजोये रखना पानी।
बरगद का रेड़
बरगद और रेड़
बढ़ता ही जाता नित
सूंढ - सी डाल फैलाये
बरगद का पेड़।
    खड़ा है उसके पास
    तार - तार हौंसला ले
    एक सूखता हुआ रेड़।
चुस कर धरती का सार
फल से लद कर खड़ा हुआ
बेकार रहने से
और अधिक अकरा हुआ
सेठों की - सी तोंद वाला
बरगद का पेड़।
    अपने को खोंखला कर
    अंधेरा से टकराने के लिये।
    ठंडा - सा तेल देता
    सूखता हुआ रेड़।
थोड़ा - थोड़ा ही
अंधकार हटाने के लिये
हर साल उग कर मर जाता
दुबला - पतला परिवार लिये
गरीबों की हड्डी - सा
सूखता हुआ रेड़।
  • सी - 204, लोअर हिनू, रांची - 834 002

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें