इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शुक्रवार, 14 जून 2013

गाँव के सुरता


  • डाँ. एच . डी. महमल्ला ' हर्ष'
ददा मोला घेरी - बेरी, आथे गाँव के सुरता ।
पान रोटी च टनी अऊ, भांटा के भरता ।।
संग के संगवारी अऊ, गिल्ली भांवरा बांटी ।
बारी के हरियर मिरचा, हंड़िया के बासी ।।
आमा बगीचा, खेत खार, तरिया के रसता ।
ददा मोला घेरी - बेरी आथे गाँव के सुरता ।।
बजार के चना मुर्रा डोकरी दाई के ओली ।
परछी के ढ़ेंकी कुरिया, छोटे रंधनी खोली ।।
बबा के गांधी टोपी, पंडरा धोती कुरता ।
ददा मोला घेरी - बेरी, आथे गाँव के सुरता ।।
बहिनी संग झगरा झांसा, दाई के दुलार ।
इसकुल मा गुरूजी के, छड़ी के मार ।।
बर - पेड़ के झुलना, अऊ खेत जाय  के धरसा ।
ददा मोला घेरी - बेरी , आथे गाँव के सुरता ।।
सावन के झड़ी झकिर, भादो के रेला ।
गंवई - गाँव के कातिक पुन्नी, तरिया पार के मेला ।।
सुरोती के कांदा कुसा, देवारी के करसा ।
ददा मोला घेरी - बेरी , आथे गाँव के सुरता ।।
फागुन के ठेठरी रोटी, हरेली के चिला ।
खावन ददा बैठ के, जम्मों माइ पिला ।।
बिहाव के लाडू - अरसा, मरनी के बरा ।
ददा मोला घेरी - बेरी, आथे गाँव के सुरता ।।
नोहर होगे सहर मा, कोइली के गुरतुर बानी ।
अत्तर के फोहा असन, उड़ गे मया मितानी ।।
गुन - गुन के चुहथे आंसू, सावन कस बरसा ।
ददा मोला घेरी - बेरी, आथे गाँव के सुरता ।।
  • ग्राम - गुरूर, जिला - दुर्ग (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें