इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शनिवार, 29 जून 2013

अम्मा

 

- आलोक तिवारी   -

सूना चौरा देख के, बिटिया को याद आई अम्मा।
तेरे जाने के बाद से, तुलसी नहीं हरियाई अम्मा।।

रोने की आवाज सुनकर, दौड़ी - दौड़ी आती अम्मा
लाख जतन करके,मुझको चुप कराती अम्मा
पलना हिलाते - हिलाते, खुद भी सो जाती अम्मा
मेरी इक हंसी पे, कितना खिलखिलाती अम्मा
तेरे जाने के बाद से, तुलसी नहीं हरियाई अम्मा।।

बिन्दी - चूड़ी - फीते से दुल्हन सी सजाती अम्मा
रुठूं तो देर तक प्यार से बहलाती अम्मा
घर में छुप जाऊ कहीं मन में घबराती अम्मा
रोज रात को परियों से, कहानी में मिलवाती अम्मा
तेरे जाने के बाद से, तुलसी नहीं हरियाई अम्मा।।

तीज - त्योहार - शादी में मुझको संग ले जाती अम्मा
रिश्ते - नातों का मतलब प्यार से समझाती अम्मा
संस्कारों की चाश्नी में हौले - हौले डुबाती अम्मा
बिटिया को गढ़ने में तन - मन अपना लुटाती अम्मा
सूना चौरा देख के, बिटिया को याद आई अम्मा
तेरे जाने के बाद से, तुलसी नहीं हरियाई अम्मा।।

रिश्ते के वास्ते सबको संदेश भिजवाती अम्मा
बात पक्की होने पर सौ - सौ खुशी मनाती अम्मा
विदा करने की घड़ी, आँसुओं से भर जाती अम्मा
सूने - सूने आँगन में तन्हा खड़ी रह जाती अम्मा
सूना चौरा देख के, बिटिया को याद आई अम्मा
तेरे जाने के बाद से, तुलसी नहीं हरियाई अम्मा।।

तुमको गये बरसों बीते, पल - पल याद आती अम्मा
सोच के हँसी आती, कभी रुलाती अम्मा
घर में छुप जाऊ कहीं, मुझको नहीं बुलाती अम्मा
सूना चौरा देख के, बिटिया को याद आई अम्मा
तेरे जाने के बाद से तुलसी नहीं हरियाई अम्मा।।

  • पता - रत्ना निवास, पाठक वार्ड, कटनी [म. प्र.]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें