इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

शनिवार, 29 जून 2013

बचपन

- हरप्रसाद ' निडर '  -

अंतर्मन की साँसे रिमझिम, जग में यूँ बगराया।
तब छंदो ने रस निचोड़कर, मुझको गीत सुनाया।
    शब्द - शब्द है अर्थ घनेरे,
    यादें बचपन की जिद्दी।
    फुदक रही है मन अँगना,
    डाल - डाल प्यारी पिद्दी।
जब - जब देखा उस अल्हड़ को, उसने खूब रुलाया।
 तब छंदों ने रस निचोड़कर, मुझको गीत सुनाया।
    आस लगी है वह जीवन हो,
    यह तो हो गया झमेला।
    लौट न पाता पर बेचारा,
    है लगता पड़ा अकेला।
फिर भी वह मौसम अलबेला, अपना कर्ज चुकाया।
तब छंदों ने रस निचोड़कर, मुझको गीत सुनाया।
    चंचल मन है बांध पखेरु,
    यहाँ - कहाँ वो रुकने वाला।
    उड़ चला विश्राम डगर पर,
    देख इधर का गड़बड़ झाला।
रात कटी, पल गुजरा बरबस, सपन सलोने भुलाया।
तब छंदों ने रस निचोड़कर, मुझको गीत सुनाया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें