इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 10 जून 2013

चला कबीरा फिर से ...


कृपाशंकर शर्मा ' अचूक'

दुहराने जो आज लगे सब उसी कहानी को।
चला कबीरा देखो फिर से, पीने - पानी को॥

शब्द हठीले समझ सके न मन की बातों को,
पथराई आँखें अब देखें नित उत्पादों को,
शपथ निरर्थक हुई बुराई मिली जवानी को।
चला कबीरा देखो फिर से, पीने - पानी को॥

करते साधन हीन साधना नई सदी पाने,
गुमशुम कहीं - कहीं पर रहते खुद से अनजाने,
चक्रवात से कौन छुड़ाए, राजा रानी को।
चला कबीरा देखो फिर से, पीने - पानी को॥

अचरज यह कैसी निठुराई अपनी लाचारी,
नदियां सूखीं रेत उड़ रहा विपदाएं भारी,
परिवर्तन तो अटल सदा से , पानी धानी को।
चला कबीरा देखो फिर से, पीने - पानी को॥

हुई विभाजित मन की रेखा मकड़ी जाल बना,
वक्रदृष्टि ने घर में घुस के किया अपना काम,
नश्तर चुभते रहें रात - दिन अब तो ज्ञानी को।
चला कबीरा देखो फिर से, पीने पानी को॥
  • 38 ए, विजयनगर, करतारपुर, जयपुर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें