इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 22 जून 2013

भ्रम

 

  • डां. बलदाउ निर्मलकर 
 सूनी गलियों में बरगद का पेड़
    छुटपुट ध्वनि, नीडाश्रित खगवृंद का ...।
    विद्युत शिखा की, मंद - मंद रोशनी में
काली रेखाकृत दिखा कुछ ऐसे
    जैसे खड़ा हो कोई मानवाकृत कुंद का ...।
    निर्निमेष आँखों से, स्थिर पैर व्यग्र मन
देखता रहा मैं उसे,
    फिर भी न हटा वह, प्राणी घना कुंज का ...।
    भाव विव्हल भय वश,अस्थिर हो चला तन
हाथ उठा उस ओर, जिस ओर खड़ा था वह
हाथ उठा उसका भी, जिस ओर खड़ा था मैं
मन में विचार हुआ,
पकड़ो कहता है वह चाहा मैं भाग जाऊं,
पीछा न छोड़ा वह,भ्रम बढ़ता गया,
कदम बढ़ता गया,भय चढ़ता गया
मुझे मति मंद का ...।
    अरे, वह भूत है, पिशाच है, दानव है
    पीछा करता हुआ आया कोई मानव है
निराश्रित होकर मैं रुका कुछ क्षण को
सोचा था मारुं मैं उठा कंकड़ को
    झुका मैं, झुका वह सुध न रहा मेरे तन की
    हिल उठी मेरी काया भ्रम की ऐसी माया
जिसे मैं डर रहा था, वह तो थी मेरी छाया
सूनी गलियों ...।
  • पता - मुकाम - पोष्‍ट - गनियारी, जिला - बिलासपुर (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें