इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 10 जून 2013

बारुद को

  • जब्‍बार ढ़ाँकवाला
  • प्रस्तुति - कृष्णा श्रीवास्तव ' गुरूजी'
बारुद को दोस्‍त या दुश्‍मन की पहचान नहीं होती है
बारूद किसी इन्सान की निगेहबान नहीं होती है
        फ़लसफ़ा चाहे कुछ भी उठाकर देख लीजिए
        बारूद किसी समस्या का समाधान नहीं होती है
तय  है बिच्छू की दोस्ती सांप से ही होगी
बारूद किसी मासूम पर महरबान नहीं होती है
        तीखे गन्ध के आते ही बन्द कीजिए अपने दरवाजे
        बारूद किसी भले घर में मेहमान नहीं होती है
फैसलाकुन होने का ढ़ोंग कितना ही रचाये
बारूद जंग का आगाज होती है अन्जाम नहीं होती
        आप तो छोटी - छोटी बातों से हो जाते हैं बचैन
        बारूद लाश के ढ़ेर पर भी परेशान नहीं होती है
छाया हो हर सिति अंधेरा ही अंधेरा
सूरज न निकले तो भी बारूद हैरान नहीं होती है
        राख और धुंध के सैलाब में क्‍या ढ़ूंढ़ रहे हैं जनाब
        बारूद,बारूद होती है नये मकतबे का ऐलान नहीं होती
बारूद की धमक इसराफील को ही जगाती हैं 
बारूद मौत का पैगाम होती है, फज़र की अज़ान नहीं होती
        आप कितने भी कशीदे पढ़िए उसकी शान में
        बारूद दानिशमंदो की कद्रदान नहीं होती है
आप सुबह देखिए या शाम को
बारूद के चेहरे पर कभी मुस्कान नहीं होती
        बम्बई और बस्तर सब जल रहे हैं 'जब्‍बार'
        बारूद जलाती है सबको, खुद लहूलुहान नहीं होती
  • 11/2 शक्ति नगर, भोपाल  - 2

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें