इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

गुरुवार, 27 जून 2013

कलम जागरण गाती है



  • - हरप्रसाद निडर -

जब है दुनिया नींद में होती, कलम जागरण गाती है।
    चीर तिमिर के उर - बंधन को, नई किरण फैलाती है।
जुल्म नाचता त्याग शराफत, जस अंधड़ जवानी में।
लूट जाती है अबला जैसी, शील सच्चाई वीरानी में।
डूब लेखनी रंग कलब से, बलखाती इठलाती है।
चीर तिमिर के उर बंधन को, नई किरण फैलाती है।

    संस्कृतियों की तोड़ सरहदें, आतंकी धूम मचाता है।
    जग - जननी की शान धरोहर, निर्मम धूल चटाता है।
    नवांकुर औ नई बेल ले, कलम कलमी बन जाती है।
    चीर तिमिर के उर बंधन को, नई किरण फैलाती है।

समर भूमि में काम न आती, ताकत अकल जवानी है।
नैतिकता को घेर कालिमा, जब करती मनमानी है।
कौंध गगन उच्चारता, इक गीत नया प्रभाती है।
चीर तिमिर के उर बंधन को, नई किरण फैलाती है।

    नैसर्गिक विपदा जब - जब, प्राणी जगत संहार किया।
    आविष्कार विज्ञान वलय भी, अंत समय दुत्कार दिया।
    प्रतिपल आँक - आँक आंकनी, आकाशी बन जाती है।
    चीर तिमिर के उर बंधन को, नई किरण फैलाती है।
  • पता - गट्टानी कन्या शाला के सामने, अकलतरा रोड, जाँजगीर (छ.ग.) मो. 9826071023

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें