इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

शनिवार, 29 जून 2013

औरत



- श्रीमती सुधा शर्मा -

मैं औरत नही सदी हूँ ,अनवरत बहती नदी हूँ।
शिशु की प्रथम बोली हूँ गृहस्थ की रंगोली हूँ।
बाबूल के आंगन की तुलसी हूँ,मां की ममता से हुलसी हूँ,
नवयौवना जब बनती तो ,बन जाती लजवंती हूँ।
मैं औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ।
पीहर से जब, नैहर में जाती हूँ,छोड़,
बाबूल की गलियाँ, नये रिश्ते निभाती हूं।
साजन के दिल की धड़कन बन, मन ही मन इतराती हूँ।
दोनों कुल का संगम करती,मै वो महानदी हूँ।
मैं औरत नदी हूँ ,अनवरत बहती नदी हूँ।
पिता की आंखों का तारा हूँ, भाई के आंखो का पानी।
माँ के नयनों के छलते सपने,मेरे वजूद की यही कहानी।
जन्म लेती बार- बार,और बारम्बार मरती हूँ।
मैं औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ।
वंशबेल बढ़ाने खातिर, धरती सा बोझ उठाती हूँ।
मरणासन्न दारूण सहकर भी, सदा मुस्काती हँू।
अपना जीवन धन्य मानती, माँ का रूप जब पाती हूँ।
अपनी छाती चीरकर, अमृत पान कराती हूँ।
कर्तव्य वेदी पर अपने, पल- पल जीती और मरती हूँ।
मै औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ।
राम- कृष्ण और लवकुश को, मैने ही जन्म दिया है।
भक्ति रस में डूब गई तो, मीरा बन गरल पीया हैं।
जाने कितने विभूतियों को , कोख में मैने पाले हैं।
चीरकर देखो मेरे कलेजा को, जाने कितने छाले है।
मैं ही राधा मैं ही दुर्गा, मैं ही तो सरस्वती हूँ।
मैं औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ।
देवकी बनकर मैने, कितने लाल कुर्बान किये
बड़े- बड़े वीरों ने मेरी, शक्ति को प्रणाम किये
लाज और मर्यादा खातिर, कर्ण जैसे सुत खोती हूँ
ओठों पर मुस्कान सजाये, चुपके- चुपके रोती हूँ
कैकयी जैसी माता बनकर, भी मैं कालजयी हूँ
मै औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ
तुलसी की रत्ना हूँ मैं, वाल्मिकि की रामायण हूँ
लड़ती रही जन्म से मैं, करती नहीं पलायन हूंं
कठोरता सी बात करो तो, धरती सी कठोर हूं मैं
त्याग तपस्या और बलिदान की, अंतिम छोर हूं मैं
सत्य मार्ग पर चली हमेशा, मैं तो तारामती हूं
मैं औरत नहीं सदी हूं,अनवरत बहती नदी हूं
वीरता की बात आई तब जौहर मैंने दिखलायी
हौसला बुलंद किया है सदा, बनकर लक्ष्मी बाई
ईश्वर को भी झुकाया मैंने, जब - जब गुहार लगाई
महाभारत के चीरहरण की, नि:सहाय द्रोपती हूं
तो यमराज को झुकाती, सत्यवान की सावित्री हूं
मैं औरत नहीं सदी हूं,अनवरत बहती नदी हूं
जीवन के महासमर में, जीत का वरदान हूं
पति का अभिमान हूं मैं, पुत्र का सम्मान हूं
अबला मुझे कभी न समझो, मैं शक्ति की खान हूं
जीत सका न कोई मुझे, मैं तो अनवरत संग्राम हूं
आ जाऊं अपने पर तो, कराल क्रोध रणचंडी हूं
मैं औरत नहीं सदी हूं,अनवरत बहती नदी हूं
दहेज वेदी पर सदा जलती हूं, हूं मासूम फुल, कांटो में पलती हूं
जाने कितने जन्म गुजरे, फिर भी आती - जाती हूं
नित नूतन रूप बनाती, अपना फर्ज निभाती हूं
अखिल विश्व की जन्मदात्री, मैं ही तो गायत्री हूं
पतिव्रता बन चिता सेज पर, जलती वही सती हूं
मैं औरत नहीं सदी हूं,अनवरत बहती नदी हूं
  • पता -ब्राम्हण पारा, राजिम, जिला - रायपुर [छ.ग.]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें