इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 19 जून 2013

हैं कुछ लोग


  • डां. कौशलेन्‍द्र 
है कुछ लोग जो कहते फिरते, राष्ट्र - गीत है धर्म - विरोधी।
कहने को हैं धर्म - प्रचारक, कर्म कर रहे राष्ट्र विरोधी॥
माता हो या महापूज्य हो, किसी के आगे नहीं वे झुकते।
इस माटी के हैं संस्कार जो, कोसों उनसे दूर वे रहते॥

दर्शन - वेद - पुराणों ले, हैं नहीं मानते अपना गौरव।
दूर देश के पैमाने ले, उन्हें बताते अपना गौरव॥
उनका मालिक अरब का वासी, अपना तो घट - घट का वासी।
उनका सब कुछ आयातित है, अपना सब कुछ खाँटी - देशी॥
हैं कुछ लोग जो कहते फिरते, राष्ट्र - गीत है धर्म - विरोधी ....

ओसामा पर है खमोशी, राष्ट्र गीत पर फतवा जारी।
रक्त - पात में उज्र नहीं, पर योग - शास्त्र है धर्म विरोधी॥
प्रवचन तो भाई चारे का, पर उनका तलवार है क्रोधी।
एक नहीं दो - चार बीबियाँ, है नारी शिक्षा विरोधी॥

ऐसे धर्म - प्रचारक से, मेरे देश के लोगों बच के रहना।
धर्म जोड़ता, नहीं तोड़ता, नहीं छीनता किसी की रोटी॥
हैं कुछ लोग जो कहते फिरते, राष्ट्र - गीत है धर्म विरोधी ...
  • ग्राम - संबलपुर, जिला - कांकेर (छ.ग.) 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें