इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शुक्रवार, 28 जून 2013

राम भजो



-  अशोक अंजुम  -

क्यों फिरते हो मारे - मारे, राम भजो।
खुद ही खुद के बनो सहारे राम भजो।

लाल, मुँगेरी जैसे सपने मत देखो।
सत्तू खाओ रामदुलारे राम भजो।

ये सरकारी दफ्तर है, बिन रिश्वत के,
बन जाएँगे काम तुम्हारे, राम भजो।

हर ह$क तुम्हें तुम्हारा देगें सौदाई,
होंगे सही - सही बँटवारे, राम भजो।

यूँ तो सही सलामत घर से निकले हो,
लौट आओगे साँझ सकारे, राम भजो।

इक दिन बीच समन्दर में सब डूबेंगे,
मानवता के ये हत्यारे, राम भजो।

कर देंगे कल्याण तुम्हार अंजुम जी
ये मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे, राम भजो।
  • संपादक - प्रयास, ट्रक गेट, कासिमपुर - 202127 अलीगढ़ (  उ.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें