इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

सोमवार, 3 जून 2013

जिससे प्यार किया

  • जितेन्द्र कुमार साहू ' सुकुमार' 
जिससे प्यार किया, वो बेवफा हो रहे हैं।
पत्थर से दिल लगा के, हम पत्थर सा हो रहे हैं॥

हमने गुजारा जीवन, तेरी बेवफाई में।
हर एक पल कटती रही, तन्हाई में॥

नींद मेरी आँखों से उड़ी, वो चैन से सो रहे हैं।
पत्थर से दिल लगाके, हम पत्थर से हो रहे हैं॥

मारी उसने मेरी चाहत को ठोकर।
क्या मिला उसको मुझसे जुदा होकर॥

सावन की तरह खुद को अश्कों से भींगों रहे हैं।
पत्थर से दिल लगाके, हम पत्थर से हो रहे हैं॥

खोये - खोये रहते हैं अक्सर ख्यालों में।
अब चैन नहीं आये, इश्क के सवालों में॥

मेरी हो न पाई, पाने से पहले खो रहे हैं।
पत्थर से दिल लगाके, हम पत्थर से हो रहे हैं॥

काश, मेरा दिल पत्थर का बना होता।
धड़कता नहीं सीने में, न दर्दों से सना होता॥

जिससे प्यार किया, वो बेवफा हो रहे हैं।
पत्थर से दिल लगाके हम पत्थर से हो रहे हैं॥
  • चौबे बांधा राजिम जिला - रायपुर ( छग )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें