इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 3 जून 2013

जिससे प्यार किया

  • जितेन्द्र कुमार साहू ' सुकुमार' 
जिससे प्यार किया, वो बेवफा हो रहे हैं।
पत्थर से दिल लगा के, हम पत्थर सा हो रहे हैं॥

हमने गुजारा जीवन, तेरी बेवफाई में।
हर एक पल कटती रही, तन्हाई में॥

नींद मेरी आँखों से उड़ी, वो चैन से सो रहे हैं।
पत्थर से दिल लगाके, हम पत्थर से हो रहे हैं॥

मारी उसने मेरी चाहत को ठोकर।
क्या मिला उसको मुझसे जुदा होकर॥

सावन की तरह खुद को अश्कों से भींगों रहे हैं।
पत्थर से दिल लगाके, हम पत्थर से हो रहे हैं॥

खोये - खोये रहते हैं अक्सर ख्यालों में।
अब चैन नहीं आये, इश्क के सवालों में॥

मेरी हो न पाई, पाने से पहले खो रहे हैं।
पत्थर से दिल लगाके, हम पत्थर से हो रहे हैं॥

काश, मेरा दिल पत्थर का बना होता।
धड़कता नहीं सीने में, न दर्दों से सना होता॥

जिससे प्यार किया, वो बेवफा हो रहे हैं।
पत्थर से दिल लगाके हम पत्थर से हो रहे हैं॥
  • चौबे बांधा राजिम जिला - रायपुर ( छग )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें