इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 11 जुलाई 2013

छाती म गोली खाबे



- शरद शर्मा  -
जा बेटा, तैं धरती के पार
तोर मुड़ म हे, करजा अपार
चुन - चुन तैं, बैरी ल मार
पहिराहूं तोला, फूल के हार
मैं बांधेव तोर गठरी म लाड़ू
जा बेटा, तैं मोर दुलारू।
तैं रहिबे सबो ले आगू
झन दिखाबे तैं हर पाछू
छाती म गोली खाबे,
बेटा, बिन जीते, तैं झन आबे
मोर दूध मा, अतका - आगी
मोर बोली म , अतका गोली
ऊंहे मनावें तैं देवारी अऊ
ऊंहेच्च खेलबे तैं होली
छाती म गोली खाबे
बेटा, बिन जीते तैं झन आबे
अपन देश बर, जीबे- मरबे
भूखे - पियासे, भले तैं रहिबे,
सब्बो झन के पीरा हरबे,
अपन भुइंया के पिआस बुझाबे
भले छातीम गोली खाबे
बेटा रे , बिन जीते, तैं झन आबे।
ये जी,
काबर धरती ल लजाथो ?
काबर जन - जन के लहू बोहाथो ?
ये देश, तुंहार नो हे का ?
ये लहू, तुंहार नो हे का ?
काबर अपन ल रोवाथो ?
अऊ काबर बैरी ल हंसाथो ?
काबर मंदिर मा महाभारत मचाथो ?
काबर पनही - चप्पल चलाथो ?
काबर आगी भभकाथो ?
ये ही सबो ल करके तुमन,
का जिनीस ल पा जाथो ?
बेटा रे,
इहीच्च बात ल, समझे ल परही
इंखरेच्च - बर, छाती ठोके ल परही
तैं संसद- बिहाड़ म जाबे
अपन धरती के पिआस बुझाबे
तैं अपन म गोली झन चलाबे
तैं अपन ल झन रोआबे
तैं बैरी ल झन हंसाबे,
तैं कभू पाछू झन देखाबे
भले छाती म गोली खाबे
बेटा रे,
बिन जीते तैं, अपन मुंहूं झन देखाबे

पता - ब्राम्‍हा्णपारा, राजिम  (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें