इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

बुधवार, 10 जुलाई 2013

गिरिराज खोजो वही गोकुल के वन में

 स्व. बासुदेव प्रसाद -




प्रस्तुति: अंजनी कुमार श्रीवास्तव

कमला विनोद हेतु गिरिजा निकेत गई।
पूछति कपाट लागि गिरिजा हो घर में।

भिक्षुक तिहारो कहां बलि मखशाला जहां।
विष के अहारी कहां वही पूतना की गोद मे

महा विष वाला काली नाग वाला कहां ?
काली नाग वाला वहीं कालीदह में

गिरिजा दुराओ ना बताओ गिरिराज कहां
गिरिराज खोजो वही गोकुल के वन में।

पता - सी / 204, लोअर हिनू, रांची - 834002

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें