इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

बुधवार, 10 जुलाई 2013

करवट



-  नरइंदर कुमार -
करवट बदलते यादों ने घेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
पल भर भी पलकें थमी नहीं,
निंदियां की गोद में,
तेरी जुल्फें लहराती रहीं
अंगुलियों के छोर में,
तुम्हीं बताओ यह कौन लुटेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
सारी शक्ति पैसों की हवस में,
डाल रही डेरा है,
प्यारी भक्ति विरक्त बन कहे,
अंधियारे तू मेरा है,
कौन आकर बताए मन किसका चितेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
धर्म दिखता मयखाने मे,
गिरता पड़ता रोज,
मुझको समझाने निकला आतंक,
लेकर भूखों की फौज,
इन्हें कौन समझाए किधर सवेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
भूख का नाम बताने आज,
हरा भरा उपवन नहीं,
भाकर क्या होती है जताने
सूने हाथ अब कुंदन नहीं,
सूखे दरखत कोई ढूंढता बसेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
  • पता -  सी004, उत्कर्ष अनुराघा सिविल लाईन, नागपुर - 440001 (महा.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें