इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 13 जुलाई 2013

मेरा मन बैरागी



-  इब्राहीम कुरैशी  -
इस रुप श्रृंगार के चौराहे पर
क्यों हुआ मेरा मन बैरागी।
जग का हर आकर्षण कहता
देख तो ले जरा ओ वितरागी।।

सागर, झरना, झील, सरिता
पर्वत,घाटी दृश्य मनोरम
उषा की लाली मतवाली
हृदय नाचता छम छम छम
सब हैं सुंदर पर जाने क्यूं
बन न पाया मैं अनुरागी।
क्यों हुआ मेरा मन बैरागी।।

विश्वास मेरा दर्पण जैसा था
टूट के चकनाचूर हो गया
जीवन का हर सपना साथी
नैनों से अब दूर हो गया
कोई न जाने किस कारणवश
हो न सका मेरा सहभागी।
क्यों हुआ मेरा मन बैरागी।।

सूख गई इच्छा की सरिता
तूफानी अरमान थम गए
छोड़ के सारे नाते रिस्ते
हम बियाबानों में रम गए
कोई कहे अभागा मुझको
कोई कहे मुझको बड़भागी।
क्यों हुआ मेरा मन बैरागी।।

पता - स्टेशन रोड, महासमुन्द छत्तीसगढ़ - 493445

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें