इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शुक्रवार, 5 जुलाई 2013

बसंत आ गे

बसंत गीत

-  आत्माराम कोशा ' अमात्‍य ' -
ऋतुआ बसंत आगे, रतिया के कंत आगे।
मतौना हवा धरे/  मेछरौना दवा धरे।
जन - मन म उम्हियागे।। ऋतुआ।।
आमा मउर म बइठे,
परसा फूल म पइठे।
कुसुम बान हाथ धरे,
पिंयर - पिंयर सरसों म गइठे।
माहकत दिक - दिगंत आगे।। ऋतुआ।।
कोयली के कुहकी म वो,
नंगारा .. डाहँकी म वो,
बौराये भँवरा के संग,
बतियन बाँहकी - बाँहकी म वो।
चोला उतार के संग आगे।। ऋतुआ।।
रसरस - रसरस, सुरसुर - सुरसुर
पीरा उमचे .. गुरतुर - गुरतुर।
महकत हवा/ दर्दे दिल के दवा,
गुदगुद - गुदगुद, तुरतुर - तुरतुर।
प्रेम - परछो के आदि - अंत आगे।। ऋतुआ।।
अनुप्रास अलंकार के संग,
प्रकृति के सिंगार के संग।
सबद - सबद रस - रंग बरसे,
रंग रसिया लगवार के संग
प्रसाद, निराला, पंत आगे।। ऋतुआ।।
  • पता - पुराना गंज मंडी चौक, राजनांदगांव  (छग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें