इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शनिवार, 13 जुलाई 2013

जांगर के गीत




-  पीसीलाल यादव -

जिनगी के दीया म, जांगर के बाती,
करम के तेल भर ओमा रे साथी।
सुरुज लुका जही, चंदा लजा जही,
तोर भरोसा अंजोरी दिन राती रे।।
ठलहा बइठइया बइठे रहि जाथे,
रेंगत रहिबे तेने ह बीरो ल पाथे।
रेंगथे संगी तेनेच ह तो गिरथे,
गिरथे सम्हलथे अ चंदा म चढ़ जाथे।।
दूबी कस हरिया, नीयत ल फरिया,
तोर हाथ हवय पुरखा के थाती रे।
आसा के जोती ल बरन दे टिम - टिम,
एखर अंजोर झन होवय रे मद्धिम।
सपना सिरतोन होही महिनत के बल म
जिनगी ल जगाए बर कर ले ग उदिम।
बिपत संग जोम दे, जिनगी ल होम दे,
आगू अंड़ा के बजूर छाती रे।
आलस तो आवय मनखे बर अजार,
जिनगी ल जर - मूल ले करथे उजार
बाँहा बल पथरा म पानी ओगरथे,
जेखर जांगर हे ओखरे सरग दुवार।
दुख म हाँस ले, सुख ल फाँस ले,
गुन गाही तोर बेटा अउ नाती रे।
  • साहित्य कुटीर, गण्डई पण्डरिया, जिला - राजनांदगांव छत्तीसगढ़

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें