इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 13 जुलाई 2013

जांगर के गीत




-  पीसीलाल यादव -

जिनगी के दीया म, जांगर के बाती,
करम के तेल भर ओमा रे साथी।
सुरुज लुका जही, चंदा लजा जही,
तोर भरोसा अंजोरी दिन राती रे।।
ठलहा बइठइया बइठे रहि जाथे,
रेंगत रहिबे तेने ह बीरो ल पाथे।
रेंगथे संगी तेनेच ह तो गिरथे,
गिरथे सम्हलथे अ चंदा म चढ़ जाथे।।
दूबी कस हरिया, नीयत ल फरिया,
तोर हाथ हवय पुरखा के थाती रे।
आसा के जोती ल बरन दे टिम - टिम,
एखर अंजोर झन होवय रे मद्धिम।
सपना सिरतोन होही महिनत के बल म
जिनगी ल जगाए बर कर ले ग उदिम।
बिपत संग जोम दे, जिनगी ल होम दे,
आगू अंड़ा के बजूर छाती रे।
आलस तो आवय मनखे बर अजार,
जिनगी ल जर - मूल ले करथे उजार
बाँहा बल पथरा म पानी ओगरथे,
जेखर जांगर हे ओखरे सरग दुवार।
दुख म हाँस ले, सुख ल फाँस ले,
गुन गाही तोर बेटा अउ नाती रे।
  • साहित्य कुटीर, गण्डई पण्डरिया, जिला - राजनांदगांव छत्तीसगढ़

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें