इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 13 जुलाई 2013

आ ... क, थूँ ... ह

कविता


-  सुरेन्द्र अंचल -

आ ... क, थूँ ....ह
अरे, हवा के झोंको में
यह सड़े मांस की गंध
कहां से ?
आ ... क, थूँ ... ह
निठारी में मासूमों का
मांस सड़ रहा
बदबू दबा रहा है कौन ?
कौन पिशाच  यह ?
कोख धधक रही मुलक की
कैसी ... धूं धूं
आ ... क, थूँ ... ह।
नसीराबाद में,
कन्याओं का खून चूसता
निर्भय खुल कर
कौन पिशाच यह?
बोलो पहरुओं,
मानवता के माथे यह टीका -
काला, किससे लगवाया
भोपाल का गहराया वह
कड़वा धूंवा नहीं छितराया
कि कारगिल की शांत
धरा को किसने पैने नखूनों से
नोच नोच कर खून बहाया
गजब हो गया।
देश की संसद बोखलाई,
संविधान की धड़कन
यो आतँकित क्यों ?
घृणा की इस वीभत्स हवस पर
थूकेंगी
सदी इक्कीसवीं थूं ... थू ... थू ...।
आ ... क, थूँ ... ह
  • पता - 2/152, साकेत नगर, ब्यावर अजमेर, राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें