इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

गुरुवार, 11 जुलाई 2013

दो छत्‍तीसगढ़ी गीत :डॉ. पीसी लाल यादव



सुखबॉटे म  सुघराथे जिनगी


- पीसीलाल यादव  -

सुख बॉटे म सुघराथे जिनगी
जॉगर पेरे म उजराथे जिनगी।
काइसी, हिजगापारी इरखा म
गउँदन कस गुँगवाथे जिनगी।।

अंजोर तोरेच पोगरी नोहय,
परोसी के घलो हक ओमा।
तोर भरे के ढोली - ढाबा त
तैं बॉट दे ठोमा - ठोमा।।

मया - पिरीत तो पहाड़ा ये,
अन के दून दुहराथे जिनगी।

गर रेते गररेतिया कहाथे
अऊ मया बॉटे म मयारू।
जांगर के परसादे संगवारी
सोन उगलथे माटी - बारु।।

पसीना के ओगरे हरदम -
फुलवा कस ममहाथे जिनगी।

नंदिया - नरवा डोंगरी - टाठा
चिरई - चिरगुन मीत तोरे।
हवा - पानी ह हितु - पिरितु
रहि सब ले जिनगी जोरे।।

पुरसारथ के पलना म पल - पल
मनखे ल दुलराथे जिनगी।

मया पिरित जब पनके

मया पिरित जब पनके रे

मन - अंतस ह गमके रे।
गीत झरे होठ ले गुरतुर
पॉव म घुंघरु झनके रे।।


जांगर पेर पछीना ओगरा
जिनगी ल अपन सुघरा।
महल बरोबर सुख देथे
कांड़ी - कोरई के कुंदरा।।

तन के संवागा काम नी आवे
साज संवागा मन के रे ....।

मनखे उही मनखे आय,
जे सब ल अपनेच जानय।
पर के सुख - दुख ल जउन,
सउंहे अपनेच मानय।।

देखे मं आथे टूट जाथे ओ
रहिथे जे हा तन - तन के।

सौ बरस जिये करुवा के
तउनो तो घलो बेकार हे।
मया - पिरित के छिन भर ह
सौ - सौ जनम के सार हे।।

जिनगी के खेती म बों ले
करम के बीजहा घन के।

' साहित्य कुटीर '  गंडई-पंडरिया जिला - राजनांदगांव (छ.ग. ) 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें