इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शुक्रवार, 5 जुलाई 2013

सुर मिला ले




-  श्रीमती सुधा शर्मा  -

आओ सुर मिला लें, गा रही माँ भारती
मन का दीपक जला लें, आज उतारे आरती।
अभिनंदन करता तिरंगा, छू रहा है आसमां
जन गण मन से अवगुजिंत, हो उठा सारा जहाँ
स्वर लहरी गूंजे जहाँ में, सप्त सुर है संवारती
आओ हम सुर मिला लें, गा रही माँ भारती।
जल रही है आज भी, धू - धू शहीदों की चिताएं
मातृभूमि की अस्मिता, के खातिर जो मर मिटे
स्मृतियों के पट खोल लें, गा रही माँ भारती।
जागते रहो लाडलों, माँ का ये आह्वान है
पहनो केसरिया बाना, तिरंगा परिधान है
अमन चैन रहे चमन में, बस यही पुकारती
आओ हम सुर मिला लें, गा रही माँ भारती।
अब मिटा सके ना हमें, आये कोई आंधियाँ
हम बना ले एकता का, ऐसा मजबूत आशियाँ
कर्मपथ पर सपूतों को सदा निहारती
आओ हम सुर मिला लें, गा रही माँ भारती।
कौन किसको है रुलाता, कौन बहाता रक्त है
कठिन परीक्षा आई है, आया ये कैसा वक्त है
कुपित हो जाए माँ तो, खड्ग फिर ये संवारती
आओ हम सुर मिला लें, गा रही माँ भारती।
  
पता - ब्राम्हण पारा, राजिम, जिला - रायपुर(छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें