इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शुक्रवार, 5 जुलाई 2013

भय



- महेश दर्पण -
यह आनन्द हैं। इनकी सबसे बड़ी खूबी है - आदमी के भीतर का सच जान लेना। तुमसे पहली बार मिल रहे हैं, पर थोड़ी ही देर में तुम्हारे भीतर की एक -एक परत खोलकर रख देंगे। गली के मोड़ पर मिले मित्र ने उनसे मेरा परिचय करवाते हुए कहा।
- आपसे मिलकर बहुत खुशी हुई मिस्टर आनन्द। मैंने औपचारिकता निभाईं
- आइए कुछ देर गप - शप हो जाए। कहा तो उसने बेहद सहज अन्दाज में था, पर मैं घबरा गया। कहीं यह आदमी मुझे पढ़ लेना तो नहीं चाहता?
- देखिए, बात दरअसल यह है कि मैं बच्चे की दवाई लेने जा रहा हूं आप लोग बैठिए। मौका लगा तो मैं जरूर आऊँगा। कहते हुए मैंने बचने का रास्ता निकाल ही लिया।
गली पार करते - करते मैं पसीना पसीना हो आया था। यह सोचते हुए कि ऐसे लोग खतरनाक होते हैं। मैं उनके साथ बैठ जाता तो ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें