इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शनिवार, 13 जुलाई 2013

गीत मेरा गाँव




-  गणेश यदु -

जहां बसती भारत माता, वही तो मेरा गाँव है।
माटी के कण - कण में जहाँ, लक्ष्मी जी का पाँव है।।
भोर होते ही सूरज जहाँ किरणें बिखेरता है।
चिड़ियों की चहचहाहट से वातारण गूँजता है।।
आँगन बुहारती माँ, देखो स्वागत का भाव है।
रंभाते बछड़े अपनी माता को पुकारते है।
मिलते ही माँ बेटे - एक दूसरे को दूलारते हैं।।
गाय के दूध में निहित, जहाँ अमृत सा प्रभाव हैं ...।
कुँए से प्रात: पनिहारिन, जब पानी निकालती है।
घड़े और बल्टी के मिलन को जब निहारती है।।
सुख - दुख के एहसास का यह अंतर्मन का भाव है ...।
किलकारियाँ मारते बच्चे, गलियों में निकलते हैं।
बचपन के बाल खेलों में, खुश होकर मचलते हैं।।
सच्चे बाल मन में मनोविकारों से दुराव है ....।
कृषक कृषि कर करते माटी महतारी की सेवा।
ग्रीष्म, वर्षा - शीत के असर से बेअसर लोहे सा।।
पाँवों मे छाले फिर भी रुकते नहीं पाँव है ...
तालाब के मेड़ पर,पेड़ पीपल - बरगद के नीचे।
बैठे है भोले शंकर अपनी,आँखों को मीचे।।
सर्वदा सब कुछ देने को तत्परता का भाव है ...
चौपालों में होती है गोष्ठी, रात में रामायण।
मंडलियाँ कराती है जहाँ, राम - कथा रसास्वादन।।
अतिथियों को देवता समझते, ऋषियों का प्रभाव है ...
  • पता - संबलपुर, जिला - कांकेर ( छत्तीसगढ़ )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें