इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 15 जुलाई 2013

पत्थर



  •  प्रकाश साहू  ' वेद '
इसकी ठोकर खायी मैंने
उसकी ठोकर खायी।
भड़का नहीं, तड़का नहीं,
मूर्ति बन गया भाई।

लोग छुड़ाते थे पाँव की मिट्टी
जब यूं पड़ा था रास्ते में।
उधर से एक पारखी गुजरा,
बाँध लाया बस्ते में।

छिनी - हथौड़ी रोज चलाया,
ईश्वर का आकार दिया।
अब होती मंदिर में पूजा,
उस सज्जन ने मुझे तार दिया।

अचरज मुझको तब होता है,
जब लोग तारने कहते हैं।
मेरे दर्शन की खातिर ये,
जाने कितने दु:ख सहते हैं।

भाव - पुष्प की संगति पा मैंने
मूल स्वभाव को तज दिया।
पत्थर से ईश्वर बन कर,
भक्तों को ही भज दिया।
  • पता - जंगलपुर, तहसील - डोंगरगांव, जिला - राजनांदगांव( छ.ग.) 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें