इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

सोमवार, 16 सितंबर 2013

अगस्‍त 2013 से अक्‍टूबर 2013

सम्पादकीय -
अपनी प्रतिभा को कब पहचानेगी छत्‍तीसगढ़ सरकार
उपेक्षा और अनादर का दंश झेलती प्रतिभाएं
पाठकों के पत्र -
निबंध
हिन्दी का आख्यायिका साहित्य / पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी
आलेख
स्वतंत्रता आंदोलन में छुईखदान का योगदान / वीरेन्द्र बहादुर सिंह
शोध लेख
जनगीतों का लोक महत्व / यशवंत मेश्राम
कहानी
मेरा वतन / विष्णु प्रभाकर       
नियॉव के जीत / सुरेश सर्वेद
औरत के खिलाफ औरत  / अर्पणा शाह
व्यंग्य
मास्टर चोखेलाल भिड़ाऊ चॉंद पर / कुबेर
साक्षात्‍कार
छत्तीसगढ़ का आइना है '' चंदैनी गोंदा '' / वीरेन्द्र बहादुर सिंह
कविता
तुम या मैं - शिखा वाष्णेय बस औरत हूं और कुछ नहीं - शीला डोंगरे
ग़ज़ल 
सारे बेदर्द ख्‍यालत : चांदनी पांडे
अशोक अंजुम की दो ग़ज़लें
नवगीत 
रजनी मोरवाल के दो नवगीत
गीत
उलझा हुआ सबेरा है - जितेन्द्र जौहर दिल पे मगर हिन्दुस्तान लिखना - श्याम सखा ' श्याम'
छत्‍तीसगढ़ी गीत
गरजत बरसत - रामकुमार साहू ' मयारु ' चंदन हे मोर देस के माटी - डॉ. मदन देवांगन
पुस्तक समीक्षा
इसे छत्तीसगढ़ के हर व्यक्ति के हाथों में जाना चाहिए 
समीक्षक - मिलिंद साव
साहित्यिक सांस्कृतिक गतिविधियाँ
साकेत का वार्षिक साहित्यिक समारोह एवं वैचारिक गोष्ठी संपन्न
छत्‍तीसगढ़ उच्‍च शिक्षा का नया शिखर
स्‍वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं पाठय पुस्‍तक निगम
स्‍वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं वीग्रुप ऑफ कम्‍पनीज़

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें