इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

मंगलवार, 10 सितंबर 2013

एक पर्व अंगारों का

आचार्य सरोज द्विवेदी
मेरे देश में आता है, एक पर्व अंगारों का,
हर द्वार चमकने लगता है,
यह राजा है त्यौहारों का।
दीपक स्वयं धधकती ज्वाला
दीवाली उनकी कतार
मानव से दिल वालों को
मेरे देश में यह उपहार
बच्चे इस दिन खेल खेलते,
सूरज चाँद सितारों का।
दीप मार लेता है बाजी
अमावस की काली रात से
कोयला हीरा बन जाता है
किरणों की बरसात से
यह प्रकाश की पूजा है,
बलि है यह अंधियारों का।
कुटियों से लेकर महलों तक
इस रात चमकने लगते हैं
राजा रंक  सभी इस दिन
नाना कुबेर के लगते हैं
लक्ष्मी स्वयं नाचती छमछम,
और ढेर कलदारों का।
मेरे देश में आता है, एक पर्व अंगारों का॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें