इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

रविवार, 15 सितंबर 2013

तुम या मैं

    शिखा वाष्णेय
मैं थी ही क्या तुम्हारे लिए
        एक चलती फिरती प्रतिमा
            या एक यंत्र भर
                जरूरतों की पूर्ति का
    जिसका अपना तो कुछ था ही नहीं
        ख़ुशी भी थी तुम्हारी हंसी में
            गमगीन भी थी तुम्हारी नमी में
                    पर तुम...
    तुम हमेशा रहे
        मेरे लिए सब कुछ
            मेरा दिल,जान, नींद,सपने
                मेरी सहर,धूप,छाँव,नगमें
    अब मेरी कविताओं में तुम
        कभी कभी मुस्कुरा भी देते हो तो
            यूँ लगता है जैसे
                तुम्हारे दिल ने मेरे वजूद को छुआ है।
पता : द्वारा - शिल वाष्णेय
3/214, विद्या नगर कालोनी
अलीगपताढ़ (उ . प्र . )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें