इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शुक्रवार, 6 सितंबर 2013

पत्थरों से सर टकराने

-  जितेन्द्र ' सुकुमार'   -
पत्थरों से सर टकराने का अंजाम मिला।
बेवजह मुस्कराने का अंजाम मिला।

लोग दुश्मन को गले लगाते हैं खुशी से,
मुझे दोस्तों को गले लगाने का अंजाम मिला।

वो बेनज़ीर है इसमें मेरा क्या कसूर,
हमें नज़र से नज़र मिलाने का अंजाम मिला।

छुपाने वाले छुपाते रहे दास्ता ए हकीकत,
हमें हमराज बनाने का अंजाम मिला।

क्या माना हमने गैरों को अपना,
हमें रिश्तें निभाने का अंजाम मिला।

अच्छा था उजड़ा ही रहा हयात सुकुमार,
यहाँ जि़ंदगी को सजाने का अंजाम मिला।
चौबेबांध राजिम, जिला - रायपुर छ.ग.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें